Header Ads

एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस में फायदेमंद हैं योग और पाइलेट्स


https://yoga16140.blogspot.com/
एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस में फायदेमंद हैं योग और पाइलेट्स

एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस में जोड़ों और रीढ़ की हड्डी में दर्द होता है। कई शोधों के अनुसार योग और पाइलेट्स एक्सरसाइज को एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस की समस्या से छुटकारा पाने के लिए एक प्रभावी और सुरक्षित तरीका माना गया है।

https://yoga16140.blogspot.com/

https://yoga16140.blogspot.com/

एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस (एएस) एक इंफ्लेमेट्री कंडीशन है जो आपके रीढ़ की हड्डी और जोड़ों को प्रभावित करती है जिसके परिणामस्वरूप जोड़ों और रीढ़ की हड्डी में दर्द होने लगता है। अगर आप नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करते हैं तो आपको इस बीमारी से राहत पा सकते हैं। योग और पाइलेट्स एक्सरसाइज की सहायता से एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस की समस्या को कम किया जा सकता है। तो आइए जानते हैं योग और पाइलेट्स इस बीमारी में किस तरह लाभ पहुंचाते हैं। [
एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस में योग और पाइलेट्स के फायदे:

https://yoga16140.blogspot.com/
पाइलेट्स: पाइलेट्स आपको रीढ़ की हड्डी में होने वाले दर्द से राहत दिलाता है। जो एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के मरीजों में सबसे गंभीर समस्या होती है। इसके अलावा भी पाइलेट्स के अनेक फायदे होते हैं।
शरीर में लचीलापन लाता है।
शारीरिक रूप से ताकत प्रदान करता है।
सहनशक्ति को बढ़ाता है।
सांस लेने की परेशानी को दूर करता है।

पाइलेट्स हमारे शरीर और दिमाग से जुड़ा हुआ है। आपको अपने शरीर की हर गतिविधि पर ध्यान देने की जरूरत होती है। पाइलेट्स आपके पूरे शरीर की मांसपेशियों को मजबूत भी करता है। कई शोधों के अनुसार पाइलेट्स को एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के लिए एक प्रभावी और सुरक्षित तरीका माना गया है। 

https://yoga16140.blogspot.com/
योग:
पाइलेट्स और योग के फायदें एक समान ही होते हैं क्योंकि इन दोनों में लचीलापन, ताकत और आसनों पर ध्यान दिया जाता है। योग व्यायाम का एक अधिक समग्र रूप होता है। योग का लक्ष्य आपको शारीरिक और भावनात्मक रूप से मजबूत बनाना और आपके शरीर, मन और आत्मा को शांति प्रदान करता है। योग से आपके शरीर को कुछ और फायदे भी मिलते हैं।
शरीर में लचीलापन आता है।
मांसपेशियों को ताकत प्रदान करता है।
मसल्स टोन में वृद्धि लाता है।
सांस लेने में सुधार लाता है।
शारीरिक ऊर्जा बढ़ाता है।
सहनशक्ति बढ़ाता है।
तनाव और चिंता से राहत दिलाता है।
आपको सतर्क बनाता है।

https://yoga16140.blogspot.com/
योग और पाइलेट्स को एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के लिए बेहतर माना जाता है। कुछ लोग पाइलेट्स का सहारा लेते हैं और कुछ लोग योग की सहायता लेते हैं। दोनों आपकी गतिशीलता में सुधार लाते हैं और दर्द और कठोरता को कम करते हैं। यह तनाव को दूर करता है और अच्छी नींद प्रदान करने में मदद करता है। यदि आप एक अध्यात्मिक व्यायाम का अनुभव करना चाहते हैं तो योग एक बेहतर विकल्प है और यदि आपको एक्सरसाइज करना है तो पाइलेट्स आपके लिए बेहतर हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.