Header Ads

रोज करें ये काम और पाएं स्लिम जांघ और हिप्स


रोज करें ये काम और पाएं स्लिम जांघ और हिप्स
अगर आप इन एक्सरसाइज को करें के लिए रोज के 12 मिनट देगी तो रोज आप 1 सेंटी मीटर अपनी चर्बी कम कर लेगी। तो फिर देर किस बात कि ट्राई करें ये एक्सरसाइज। जानिए




हेल्थ डेस्क: आज के समय में महिलाओं के लिए वजन बढ़ना एक गंभीर समस्या बन गया है। जबकि सबसे ज्यादा समस्या महिलाओं की शरीर के इन हिस्सों जैसे कि पेट, जांघ और हिप्स में आसानी से वसा जम जाता है। जिसके कारण उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पडता है। इसी कारण कभी-कभी शर्मिंदगी का भी सामना करना पडता है। ऐसे में वह अपना वजन कम करने के लिए हर उपाय अपनाती है जिससे कि उनके जांघ और हिप्स की चर्बी कम हो जाएं।

महिलाएं वजन कम करने के लिए कई बार बेल्‍ट का इस्‍तेमाल करती है, मसाज जेल लगाती है, क्रीम लगाती है और डायट चार्ट के हिसाब से खाना खाती है। कई-कई दिनों तक सलाद को खाने के बाद भी कुछ ही दिनों में हाल वैसे का वैसा ही हो जाता है। सच्‍चाई ये है कि शरीर के निचले हिस्‍से का मोटापा, सिर्फ योग या व्‍यायाम से घटता है।


अगर आप सच में अपने इन जगहों की चर्बी कम करना चाहती है तो इसके लिए रोज ये काम जरुर करें। पहला कि अपने रोज के खाने में कम से कम कैलोरी वाला भोजन लें, दूसरा अधिक से अधिक पानी पिएं और तीसरा कि एक्सरसाइज करें।


अगर आप इन एक्सरसाइज को करें के लिए रोज के 12 मिनट देगी तो रोज आप 1 सेंटी मीटर अपनी चर्बी कम कर लेगी। तो फिर देर किस बात कि ट्राई करें ये एक्सरसाइज।


डीप स्‍क्‍वैटस

इस आसन से जांघ की चर्बी कम होती है। इसके लिए अपने दोनों पैरों पर खड़े हों। हाथ को अपने चेहरे के सामने 12 इंच की दूरी पर लाएं। गहरी सांस लें और अपने घुटनों को फोल्‍ड करें। 90 डिग्री का कोण बना लें। इसके बाद दुबारा सामान्‍य स्थिति में आ जाएं।








उटकासन



उटकासन
इस एक्सरसाइज को करने से आपको हिप्स और जांघ की चर्बी के साथ-साथ मसल्स भी मजबूत बनते है। इसे करने के लिए सबसे पहले आप अपने दोनों पैरों पर खड़े हो जाएं। इसके बाद सांस अंदर की ओर खींचे और अपने दोनों हाथों को ठीक वैसे ही ऊपर की ओर उठाएं। इसके बाद अपने घुटनों को आधा फोल्‍ड करें (लगभग वैसा ही जैसा कुर्सी पर बेठने के दौरान फोल्ड रहता है) और फिर सांस छोड़ें। इसे शुरुआत में केवल दस बार करें और फिर धीरे-धीरे इसकी संख्‍या बढ़ाएं।

अगर आप इन एक्सरसाइज को करें के लिए रोज के 12 मिनट देगी तो रोज आप 1 सेंटी मीटर अपनी चर्बी कम कर लेगी। तो फिर देर किस बात कि ट्राई करें ये एक्सरसाइज। जानिए

वीरभद्रासन
वीरभद्रासन
इस आसन के लिए सबसे पहले अपने दोनों पैरों पर सीधे खड़े हो जाएं। अब अपने बाएं पैर को सीधा रखें, इसे हल्का बाएं ओर ही घुमाए रखें। दाएं पैर को थोड़ा आगे बढ़ाएं और इसके बाद दोनों पैरों को मोड़ें। अपने हाथों को नमस्‍ते का आकार देते हुए ऊपर की ओर रखें। थोड़ी देर इसी स्टेज में रहें और फिर इसे दोबारा भी करें।




बध्‍धाकोनासन

इस एक्सरसाइज को करने से आपकी जांघ और हिप्स की चर्बी खत्म हो जाएगी। इस आसन को करने के लिए सबसे पहले पीठ बिल्कुल सीधी करके बैठ जाएं। इसके बाद घुटने मुड़े हुए और पैर जमीन को छू रहे हो। इसके बाद आपके पैरों के तलवे एक-दूसरे से सटे रहें। और अब लंबी सांस लें और फिर छोड़ें। इस बात का ध्यान रहे कि आपके पैरों की मांसपेशियां तनी हुई हो, न कि ढीली-ढाली रहे।

आनंदबलासन



इस आसन को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं। फिर अपने घुटनों को ऊपर और थोड़ा आगे की ओर मोड़ें, ताकि यह पेट के पास सट जाए।
अब अंदर की ओर लंबी सांस लें और अपने पांव की उंगलियों को दोनों हाथों से पकड़ कर पैरों को एक बार फैला कर पेट के पास लाएं। ऐसा करने से आपको पेट, हिप्स और ऐर जांघ की चर्बी कम हो जाएगी।


रहना है फिट, तो रोज सिर्फ 1 मिनट करें ये काम
एक शोध के मुताबिक माना गया है कि सिर्फ 1 मिनट तेज एक्सरसाइज की जाएं तो वह आपकी 45 मिनट की गई एक्सरसाइज के बराबर होती है। तो फिर अब कसरत नहीं करने का कोई बहाना नहीं चलेगा। अब इस शोध के बाद तो यह बहाना बनाना भी मुश्किल है कि कसरत करने का तो समय...


हेल्थ डेस्क: हर व्यक्ति फिट रहने के लिए क्या नहीं करता है। आज के समय में हर व्यक्ति की यही इच्छा होती है कि वह सबेस फिट हो। इसके लिए वह घंटो जिम में पसीना बहाता है। जिससे कि वह कभी मोटापा जैसी समस्या न हो। लेकिन आप जानते है कि सिर्फ आप रोज 1 मिनट एक्सरसाइज करके फिट रह सकते है। चौंक गए न कि ऐसा हो सकता है, लेकिन यह सच है।


एक शोध के मुताबिक माना गया है कि सिर्फ 1 मिनट तेज एक्सरसाइज की जाएं तो वह आपकी 45 मिनट की गई एक्सरसाइज के बराबर होती है। तो फिर अब कसरत नहीं करने का कोई बहाना नहीं चलेगा। अब इस शोध के बाद तो यह बहाना बनाना भी मुश्किल है कि कसरत करने का तो समय ही नहीं मिलता!

कनाडा के ओंटारियो स्थित मैकमेस्टर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ऑफ किसियोलॉजी और शोध दल के प्रमुख मार्टिन गिबाला ने बताया, "यह काफी समय की बचत करनेवाला कसरत रणनीति है। अत्यअल्प समय का गहन अभ्यास भी उल्लेखनीय रूप से प्रभावी है।"

वैज्ञानिकों ने शोध के दौरान यह पता लगाया कि स्पिरिट इंटरवल ट्रेनिंग (एसआईटी) मॉडरेट इंटेंसिटी कंटीन्यूअस ट्रेनिंग (एमआईएसटी) की तुलना में कितना प्रभावी है जिसकी सिफारिश सार्वजनिक स्वास्थ्य के दिशा निर्देशों में की जाती है।

शोध के दौरान कार्डियोरेस्परेटरी फिटनेस और इंसुलिन के प्रति संवेदनशीलता की जांच की गई। इसके तहत कुल 27 सुस्त पुरुषों की भर्ती की गई और उन्हें 12 हफ्तों के लिए गहन और पारंपरिक दोनों तरीकों के कसरत करने को दिए गए, साथ ही एक समूह को बिल्कुल भी कसरत नहीं करने को कहा गया।

एसआईटी प्रोटोकॉल के तहत 20 सेकेंड तक ऑल आउट साइकिल स्प्रिंट कसरत करना था जो सबसे अधिक प्रभावी पाया गया। इस 10 मिनट के वर्कआउट में 2 मिनट का वार्म अप और तीन मिनट का कूल डाउन भी शामिल था। और तीक्ष्ण कसरतों के बीच में 2 मिनट की आसान साइकिलिंग भी शामिल है।

इस नए अध्ययन में इस समूह की तुलान दूसरे समूह से की गई, जिन्होंने 45 मिनट लगातार साइकिल चलाई साथ वार्मअप और कूलडाउन में सिट प्रोटोकॉल जितना ही समय लिया। ऑनलाइन जर्नल प्लोस वन में प्रकाशित इस शोध में कहा गया कि 12 हफ्तों के प्रशिक्षण के बाद दोनों समूहों का परिणाम उल्लेखनीय रूप से एक जैसा था।

गिबाला कहते हैं, "ज्यादातर लोग कसरत नहीं करने का बहाना यही बनाते हैं कि उनके पास समय नहीं है।" उन्होंने आगे कहा, "हमारे अध्ययन का निष्कर्ष है कि कम समय में भी तेज कसरत से स्वास्थ्य संबंधी फायदा मिलता है।"


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.