Header Ads

बॉडी को डिटॉक्स कैसे करें

बॉडी को डिटॉक्स कैसे करें


भागती जीवनशैली में जिस तरह की हमारी लाइफस्टाल है उसमें शरीर को कभी-कभी शुद्धिकरण की जरूरत पड़ती है। यह शुद्धिकरण डिटॉक्सीफिकेशन के द्वारा किया जा सकता है। आज हम बॉडी को डिटॉक्स कैसे करें इसके बारे जानेंगे। अपने अंदरूनी से शरीर को साफ करना और इसे आराम देना डिटॉक्सिफिकेशन कहा जाता है।

यह प्रक्रिया शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटा देती है और स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए पोषक तत्वों के साथ फ़ीड करती है। शरीर किडनी, त्वचा, फेफड़ों, आंतों और लिम्फैटिक सिस्टम के माध्यम से विषाक्त पदार्थों को समाप्त करता है।
क्या है डिटॉक्स

डिटॉक्स शब्द का अर्थ है शरीर के आंतरिक तंत्र को भोजन में मौजूद विषैले और दूसरे हानिकारक रसायनों से मुक्त करना।
बॉडी को डिटॉक्स कैसे करें
शुगर का सेवन कम कीजिए

शरीर के लिए अच्छा नहीं है। अत्यधिक शुगर का सेवन करने से मधुमेह, मोटापा और उच्च रक्तचाप जैसी खतरनाक बीमारियों को जन्म देती है। अधिक शुगर खाने से, आप अपने पैनक्रिया से अधिक इंसुलिन उत्पन्न करने के लिए कहते हैं। इस प्रकार बॉडी डिटॉक्स में परेशानी होती है। आप शुगर का सेवन कम से कम करें या इसे कुछ समय के लिए पूरी तरह से रोक दें।
ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन

बॉडी को डिटॉक्स करने में पानी बहुत ही मदद करता है। पानी आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में सहायता करता है। अधिक पानी का सेवन शरीर से अधिक विषाक्त पदार्थों को समाप्त कर देता है।

यदि आपको सादे पानी पसंद नहीं हैं, तो आप नींबू पानी का सेवन कर सकते हैं। नींबू स्वस्थ पाचन को बढ़ावा देने और विषाक्त पदार्थों को अधिक प्रभावी ढंग से बाहर निकालने में आपकी सहायता करने के लिए आपको फिर से जीवंत करता है।
व्यायाम कीजिए

किसी भी प्रकार का व्यायाम ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करके आपके शरीर को ऊर्जावान महसूस करने में मदद करता है। बेहतर ब्लड सर्कुलेशन के बहुत से फायदे हैं जिनमें बेहतर पाचन, तनाव से राहत देने जिससे आप खुश महसूस करते हैं। नियमित रूप से व्यायाम करने वाले लोग अपने शरीर में चयापचय या मेटाबॉल्जिम को बढ़ाते है और बॉडी से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालते हैं।
ग्रीन टी का सेवन

ग्रीन टी एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध है और एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर के लिए बहुत ही अच्छा होता है। एंटीऑक्सीडेंट ऑक्सीडेंट द्वारा कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले तत्वों से लड़ता है।
ऑक्सीडेंट मुक्त कण होते हैं जो हमारे शरीर में उत्पादित होते हैं और पर्यावरण में भी पाए जाते हैं। एंटीऑक्सीडेंट ऑक्सीडेंट्स के खिलाफ काम करते हैं, यही कारण है कि इन्हें एंटी-ऑक्सीडेंट कहा जाता है।


ग्रीन टी में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट आपके शरीर को विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद करता है और आपको लंबे समय तक पूर्ण रखता है। ग्रीन टी में कैफीन भी होता है लेकिन हम आपको बताते हैं कि कॉफी में मौजूद कैफीन से यह कैफीन अलग है। यह कैफीन हल्का है और आपके शरीर के लिए अच्छा है। – ग्रीन टी के नुकसान
नींबू पानी
बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए सबसे अच्छे डिटॉक्स पेय में से एक है नींबू पानी। नींबू में बहुत विटामिन सी होता है जो आपकी त्वचा को चमकदार बनाता है। नींबू भी आपके शरीर को क्षीण और साफ करता है। 1 नींबू के रस को 1 गिलास गर्म पानी में डालें और रोज इसे सुबह पी सकते हैं।
ध्यान लगाएं


यदि आप नियमित रूप से ध्यान का अभ्यास करते हैं तो आपके दिमाग को आराम करने और अधिक ताजा और ऊर्जावान महसूस करने में मदद मिलती है। इसके जरिए आप बॉडी को डिटॉक्स भी कर सकते हैं।

भाप लेना भी आपके नाक के मार्ग को साफ करता है और आपको गहरी सांस लेने में मदद करता है। गहरी सांस लेने से आपके शरीर को विषाक्त पदार्थों से छुटकारा मिल जाता है। –
ताजे फल

ताजे फल का रस लीजिए। ताजे फल और विशेष रूप से ब्राइट कलर वाले फल एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध होते हैं। ऐसे फलों के कुछ उदाहरण चेरी, गाजर, ब्लूबेरी, लाल जामुन और कई अन्य फल हैं।
स्किन एक्सफोलिएशन


एक्सफोलिएशन मृत त्वचा को हटाने में मदद करता है और आपको ताजा और सुंदर महसूस कराता है। मालिश, स्क्रबिंग और ब्रशिंग आपको एक्सफोलिएट में मदद कर सकता है। एक्सफोलिएशन आपके शरीर के रक्त परिसंचरण में सुधार करने में भी मदद करता है।
बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए कुछ और टिप्स

1. बेहतर नींद, सकारात्मक दृष्टिकोण, मस्तिष्क की स्पष्टता बनाए रखें।
2. शाकाहारी भोजन लें। यह शरीर पर अधिक दबाव नहीं डालता है।

3. विटामिन सी का अधिक मात्रा में सेवन करें, जो लीवर से टॉक्सिन को बाहर निकालने में सहायक होते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.